Friday, September 30, 2022
More

    बातों में मत आइये, खुद जानिये इम्यूनिटी पुलिस या अपराधी !

    कोरोना के इस दौर में इम्युनिटी की बड़ी चर्चा है।जितने लोग इम्युनिटी पर उतनी ही बातें।असल में इम्युनिटी है क्या ? इम्युनिटी अपराधी है या शरीर के लिए पुलिस इसे जानने के लिए पढ़े 

    यदि हम मानव शरीर की कल्पना एक घर से करें तो रोग प्रतिरोधक क्षमता वो पुलिस है जो घर में अनावश्यक रूप से घुस आने वाले चोरों से घर की सुरक्षा करती है। लेकिन इसमें सबसे रोमांचक बात यह है कि ये पुलिस शरीर के भीतर ही मौजूद रहती है।

    दरअसल, हर शरीर में प्रकृति ने इस तरह की व्यवस्था की है कि वो शरीर के लिए नुकसानदेह या शरीर को परेशानी पहुंचाने वाले विषाणु, बैक्टीरिया और माइक्रोब्स से उसकी सुरक्षा करती है। इन बाहरी जीवाणु से शरीर को सुरक्षित रखने वाली शक्ति को ही इम्युनिटी कहते हैं।

    शरीर में ये शक्ति खाद्य पदार्थों द्वारा ही विकसित होती है बशर्ते हम उस तरह का भोजन लें जो इस रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए जरूरी हो। दरअसल हमारे शरीर में कुछ कोशिकाएं होती हैं जिनमें से कुछ तो लगातार काम करती हैं और कुछ एक तय समय सीमा में काम करती हैं।

    लगातार काम करने वाली हमारी कोशिकाएं तभी ताकतवर बन पाती हैं जबकि उन्हें हमारे द्वारा लिए गए भोजन में से जरूरी चीजें मिल पाती हैं। चिकित्सकीय भाषा में यही एंटीवायरस कहलाती हैं।

    जब बाहर से आक्रमण करने वाले विषाणु, बैक्टीरिया की तुलना में हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर पड़ने लगती है तभी हम मौसम में आए परिवर्तनों के कारण बार-बार बीमार पड़ते हैं।

    अपनी इम्युनिटी को चेक करने का यही सबसे अच्छा तरीका भी है कि मौसम के परिवर्तन का असर यदि आपके शरीर पर जल्दी पड़ रहा है तो आपकी इम्युनिटी कमजोर है और उसे बढ़ाने की जरूरत है।