Wednesday, December 1, 2021
More

    Fitter, healthier, happier

    Covid-19 Status

    India
    34,595,573
    Total confirmed cases
    Updated on December 1, 2021 7:57 am

    Quick View

    Here we've provide a compiled a list of the best health and wealth slogan ideas, taglines, business mottos and sayings we could find. Our team works hard to help you piece ideas together getting started on advertising aspect of the project you're working on. Whether it be for school, a charity organization, your personal business or company our slogans serve as a tool to help you get started.

    recent

    मोटापा यानी दिमागी प्रोटीन की कमी !

     

    #Team Nirogbhav 

    मोटापा। ये एक शब्द ही आपको बीमार कर देता है। मोटापे का संबंध दिमाग से है ? इस पर यकीन नहीं होगा आपको। पर ये सच है। दिमाग में एक प्रोटीन की कमी के चलते भूख ज्यादा लगती है और हम मोटे होने लगते हैं। मोटापा कई बीमारियों का हेडक्वाटर है।

    मोटापा शरीर में, डायबिटीज, हाईपरटेंशन, हार्ट डिजीज, बैड कोलेस्ट्रॉल, हाई ब्लड प्रेशर जैसी कई बीमारियां अपने साथ लाता है। अभी तक आप समझ रहे होंगे कि मोटापे का संबंध भूख से होता होगा। जिस व्यक्ति को जितनी भूख लगती है, वो उतना खाता है, फिर उसी कारण उसे मोटापा जकड़ लेता है। लेकिन ऐसा नहीं है।

    जापान के रिसर्चर्स ने एक ऐसे प्रोटीन की पहचान की है, जो दिमाग को भूख संबंधी नियमित संकेत देने और मेटाबॉलिज्म (Metabolism) में अहम भूमिका निभाता है। चूहों पर की गई इस स्टडी में पाया गया कि ब्रेन के आगे के हिस्से (Front) में एक्सआरएन1 (XRN1) नामक प्रोटीन कम होने पर उनकी (चूहों) भूख बढ़ जाती है और वह मोटे हो जाते हैं।

    जापान की ओआईएसटी यानी ओकीनावा इंस्टीट्यूट आफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी ग्रैजुएट यूनिवर्सिटी (#Okinawa Institute of Science and Technology Graduate University) के वैज्ञानिक प्रोफेसर तदाशी यामामोटो (Tadashi Yamamoto) के अनुसार मूलभूत रूप से मोटापे का कारण भोजन करने और उससे उत्पन्न ऊर्जा के समायोजन में असंतुलन होता है। इस स्टडी को साइंस मैगजीन ‘आईसाइंस (iScience)’ में प्रकाशित किया गया है।

    महामारी बनी मोटापे से जुड़ी बीमारियां
    मौजूदा समय में मोटापा (Obesity) पब्लिक हेल्थ के लिए चिंता का बड़ा कारण है। विश्व भर में 65 करोड़ से अधिक वयस्क मोटापे के शिकार हैं। वजन अत्यधिक बढ़ जाने से इससे जुड़ी कई अन्य बीमारियां भी महामारी का रूप लेती जा रही हैं, जैसे- टाइप-2 डायबटीज आदि।

    शोध में बताया गया है कि चूहे के दिमाग के अगले हिस्से में न्यूरान की कमी करने से उनके दिमाग के उस हिस्से (हाइपोथैलेमस) में एक्सआरएन1 नाम के प्रोटीन की कमी हो जाती है। इससे शरीर के तापमान, नींद, भूख और प्यास को नियंत्रित किया जाता है। जिन चूहों में इस प्रोटीन की कमी पाई गई, उन्होंने सामान्य चूहों के मुकाबले दोगुना खाना खाया।

     

     

     

     

     

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here